भोपाल में कोरोना टेस्टिंग घटाने का खेल!:भोपाल में 24 घंटे में 3 हजार टेस्टिंग कम, फिर भी 1508 पॉजिटिव केस; पॉजिटिविटी रेट 35% पार

CORONA UPDATES IN INDIA AND WORLD
CORONA UPDATES IN INDIA AND WORLD

बुलंदसोच 29 जनवरी 2022 भोपाल

राजधानी भोपाल में कोरोना का संक्रमण छिपाने के लिए टेस्टिंग घटाने का खेल शुरू हो गया है। शहर में 27 जनवरी को 7218 टेस्ट हुए थे, लेकिन 28 जनवरी को यह आंकड़ा 4298 पर पहुंच गया। बावजूद 1508 नए पॉजिटिव केस मिले हैं और पॉजिटिविटी रेट (संक्रमण दर) 35% पार हो गया। यानी हर तीसरा सैंपल पॉजिटिव निकला। तीसरी लहर में यह पहली बार है, जब पॉजिटिविटी रेट इतना ज्यादा पहुंचा।

read more:MPPSC NEWS- स्टेट इंजीनियरिंग सर्विस एग्जाम का घोषित हुआ परिणाम,देखें रिजल्ट्स
भोपाल में जनवरी की शुरुआत में पॉजिटिव केस बढ़ने शुरू हुए थे। जब 500 से कम केस मिल रहे थे, तब भी स्वास्थ्य विभाग एवरेज 6 हजार टेस्ट रोज कर रहा था। 11 जनवरी को टेस्टिंग का यह आंकड़ा 8807 तक पहुंच गया था। इसके बाद केस बढ़ते रहे, लेकिन टेस्टिंग नहीं घटाई गई, लेकिन 28 जनवरी को टेस्टिंग में अचानक कमी कर दी गई। 27 जनवरी की तुलना में 28 जनवरी को करीब 3 हजार टेस्ट कम हुए।


कम टेस्ट, ज्यादा केस


27 जनवरी को 7218 टेस्ट में से 1857 पॉजिटिव केस निकले थे। पॉजिटिविटी रेट 26% था। 28 जनवरी को 4298 टेस्ट में से 1508 संक्रमित मिले। इससे पॉजिटिविटी रेट 35% पर पहुंच गया। तीसरी लहर में यह पॉजिटिविटी रेट सबसे ज्यादा है। 7 दिन की बात करें तो 24 जनवरी को पॉजिटिविटी रेट 29% था।

read more:बुलंद सोच के नए कलेवर का हुआ एमसीयू में विमोचन,मुख्य अतिथि के रूप में मंत्री,विधायक,पत्रकार एवम शिक्षाविद रहे मौजूद

कोलार में सबसे ज्यादा केस


राजधानी के कोलार इलाके में 24 घंटे के अंदर सबसे ज्यादा पॉजिटिव केस मिले हैं। यहां पर एवरेज 30% केस मिले। इसके अलावा गोविंदपुरा और बैरागढ़ में भी केस मिले हैं। जेपी और हमीदिया हॉस्पिटल का स्टॉफ भी संक्रमण हुआ है। करीब 90 छोटे बच्चे भी संक्रमण का शिकार हुए हैं। उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

280 मरीज हॉस्पिटल में भर्ती


भोपाल में 13 हजार 494 एक्टिव मरीज हैं। इनमें से 280 मरीज हॉस्पिटल में भर्ती है। बाकी होम आइसोलेट है। भोपाल में अब तक 1 लाख 54 हजार 530 लोग संक्रमित हो चुके हैं। इनमें से 1 लाख 40 हजार 22 मरीज ठीक हो चुके हैं। दिसंबर के 31 दिन में सिर्फ 271 मरीज मिले थे, लेकिन जनवरी के 28 दिनों में यह आंकड़ा 30 हजार के पार पहुंच गया है। सात दिन में आंकड़ा 13 हजार 571 है।