विंध्य में सत्ता के बाहुबलियों से थरार्ये प्रशासनिक अधिकारी,आये दिन पिटने की खबरें आ रहीं सामने

मध्यप्रदेश का विंध्य क्षेत्र(VINDHYA REGION) उत्तर प्रदेश और बिहार बनता जा रहा है। कभी यूपी और बिहार से इस तरह की खबरें सामने आती थी की दिनदहाड़े किसी अधिकारी को अगवा कर लिया गया या फिर मारपीट या उसकी हत्या कर दी गई लेकिन शांति का टापू कहे जाने वाले विंध्य क्षेत्र में इस तरह की घटनाएं आम होती जा रही हैं।
मध्यप्रदेश का विंध्य क्षेत्र(VINDHYA REGION) उत्तर प्रदेश और बिहार बनता जा रहा है। कभी यूपी और बिहार से इस तरह की खबरें सामने आती थी की दिनदहाड़े किसी अधिकारी को अगवा कर लिया गया या फिर मारपीट या उसकी हत्या कर दी गई लेकिन शांति का टापू कहे जाने वाले विंध्य क्षेत्र में इस तरह की घटनाएं आम होती जा रही हैं।
  • अधिकारियों की आंई शामत,पहले जनपद सीईओ फिर एफएसओ अब एएसआई के साथ मारपीट

मध्यप्रदेश का विंध्य क्षेत्र(VINDHYA REGION) उत्तर प्रदेश और बिहार बनता जा रहा है। कभी यूपी और बिहार से इस तरह की खबरें सामने आती थी की दिनदहाड़े किसी अधिकारी को अगवा कर लिया गया या फिर मारपीट या उसकी हत्या कर दी गई लेकिन शांति का टापू कहे जाने वाले विंध्य क्षेत्र में इस तरह की घटनाएं आम होती जा रही हैं। कुछ समय से यहां अधिकारियों का पिटने का सिलसिला लगातार जारी है।सत्ताधारियों का कहर इस तरह से है कि किसी भी अधिकारी की कभी भी कहीं भी पिटाई हो सकती है। प्रशासनिक अमले में भय का वातावरण निर्मित है।बड़ा सवाल यह है कि इन घटनाओं के सामने आने के बाद प्रदेश सरकार ने अब तक कोई बड़ा एक्शन नहीं लिया है।

READ MORE:BHOPAL LIVE:जे पी अस्पताल में अव्यवस्थाओं का अंबार:प्रसूति विभाग के शौचालयों में लगे हैं टूटे हुए दरवाजे,वॉटर कूलर हो चुका है कंडम

डेढ़ माह के भीतर 3 अधिकारियों के साथ हुई मारपीट की घटनाएं
पहला मामला जनपद सीईओ के साथ मारपीट का…

पहला वाक्या सामने आया 16 अगस्त 2022 को जब रीवा ंिजले के सिरमौर जनपद के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एस के मिश्रा सेमरिया(CEO S K MISHRA REWA) से किसी मीटिंग से सिरमौर वापस लौट रहे थे तभी आधा दर्जन से अधिक व्यक्तियों ने बीच रास्ते में रोककर उनके साथ जमकर मारपीट की और मृत समझकर झाड़ियों में फेंककर भाग गए। बताया जा रहा है कि इस घटना की मुख्य वजह सेमरिया विधायक के पी त्रिपाठी(MLA KP TRIPATHI) से उनकी बातचीत का तथाकथित वायरल आॅडियो था। एक दिन पूर्व ही विधायक के पी त्रिपाठी ने उन्हें देख लेने की धमकी दी थी।

दूसरा वाक्या एफएसओ के साथ मारपीट का
दूसरा मामला सामने आया सतना जिले के अमरपाटन (AMARPATAN)से जहां ढाबा व्यापारी ने खाद्य एवं औषधि निरीक्षक नीरज विश्वकर्मा को उस समय अगवा कर लिया और मारपीट की जब वह ढाबे में चाय पीने गये थे। अधिकारी के साथ इसलिए मारपीट की गई कि उसने ढाबा संचालक गुंडा स्वामी को फूड का लाइसेंस बनवाने की हिदायत दी थी। इस मामले में जानकारी मिली है कि अब तक एफआईआर तक दर्ज नहीं हुई है। वहीं पंचायत एवं ग्रामीण विकास राज्य मंत्री रामखेलावन पटेल( PRD MINISTER IN MP RAMKHELAVAN PATEL) ने उल्टा निरीक्षक को ही कार्यवाही न करने को कहा है ऐसा न करने पर उल्टा टांग देने की धमकी दी है। इसका आॅडियो भी वायरल हुआ है।

सिंगरौली में एएसआई के साथ मारपीट
सिंगरौली के मोरवा थाने(MORWA POLICE STATION SINGRAULI) में पदस्थ सहायक पुलिस सब इंस्पेक्टर अरविंद चतुवेर्दी के साथ दो ट्रक चालकों ने जमकर मारपीट की।इसका वीडियो सोशल मीडिया में जमकर वायरल हो रहा है। दरअसल नगर परिषदों का चुनाव समपन्न कराकर पुलिस पार्टी वापस लौट रही थी इसी बीच सूचना मिली कि एनएच 39 में जाम लगा हुआ है जाम खुलवाने पुलिस वाले हाइवे में पहुंचे कि तभी एएसआई अरविंद चतुवेर्दी ट्रकों की लंबी कतार देखकर पीछे पहुंचे तो दो ट्रक चालकों ने उन पर लाठियों से हमला कर दिया,इस घटना में उन्हें गंभीर चोंटे आई हैं। पुलिस ने कुछ आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस अधीक्षक ने लापरवाही बरतने पर मोरवा टीआई मनीष तिवारी समेत चार पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है।
विपक्षी नेता निष्क्रिय
इन घटनाओं के बाद यदि बात विपक्ष के नेताओं की करें तो विंध्य में विपक्ष भी इस मुद्दे को उठाने में नाकाम ही रहा है। रीवा,सतना,सीधी,सिंगरौली कहीं भी इस मुद्दे को लेकर आवाज नहीं उठाई गई। विंध्य में विपक्ष की इसी कमजोरी का फायदा सत्ता पक्ष बखूबी से उठा रहा है।

READ MORE:BHOPAL:3 साल की मासूम के साथ फंदे पर झूली मां,पति-पत्नी के बीच हुई थी सामान्य कहासुनी