600 करोड़ के घोटाले में बीजेपी (BJP) सांसद पर FIR, सफाई देने भोपाल पहुंचे सांसद डामोर (GUMAN SINGH DAMOR)

मध्य प्रदेश:

मध्य प्रदेश के रतलाम झाबुआ संसदीय क्षेत्र के सांसद गुमान सिंह डामोर (GUMAN SINGH DAMOR) के खिलाफ अलीराजपुर में 600 करोड़ के घोटाले में मामला सामने आया है। कांग्रेस ने बीजेपी (BJP) सांसद की गिरफ्तारी की मांग उठा दी है । रतलाम में आज कांग्रेस ने पंचायती राज प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष डीपी धाकड़, पूर्व जिलाध्यक्ष राजेश भरावा, कार्यवाहक जिलाअध्यक्ष दिनेश शर्मा सहित कई नेताओं के नेतृत्व में पूरे शहर में रैली निकाली ।

कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि आदिवासी क्षेत्र में फ्लोरोसिस नियंत्रण के तहत हैंडपंप लगाने के लिए 600 करोड़ रुपए दिये गए थे, परंतु सारा पैसा गुमान सिंह डामोर (GUMAN SINGH DAMOR) गबन कर गए….

read more पंचायत चुनाव(Panchayat Election) अपडेट: कैंडिडेट्स की जमानत राशि होगी वापस …निर्वाचन आयोग

वहीं फिलहाल इस मामले को लेकर सरकार की ओर से भी कोई स्पष्टीकरण या बयान सामने नहीं आया है। बता दें कि सांसद पर अलीराजपुर और झाबुआ क्षेत्र में फ्लोरोसिस कंट्रोल एवं अन्य प्रोजेक्ट के लिए की गई खरीद में भ्रष्टाचार और गबन के आरोप हैं।

बचाव में सफाई देने सांसद डामोर (GUMAN SINGH DAMOR) भोपाल के स्थित पार्टी ऑफिस पहुंचे थे। बीजेपी (BJP) ऑफिस में प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा मौजूद थे। इसके साथ ही संगठन महामंत्री सुहास भगत भी मौजूद थे।

मगर डामोर (GUMAN SINGH DAMOR) को बहुत ज्यादा भाव नहीं मिला है। दो मिनट के अंदर ही डामोर बीजेपी (BJP)ऑफिस से निकल गए। बाहर में मीडियाकर्मियों ने उन्हें घेर लिया। घोटाले के आरोपों पर उनसे सवाल किया गया। मगर वह भागते रहे। उन्होंने अपने ऊपर लगे आरोपों पर कोई जवाब नहीं दिया। इस दौरान मीडियाकर्मी उनके पीछे-पीछे दौड़ते रहे लेकिन डामोर (GUMAN SINGH DAMOR) मौके से भागते रहे। उन्होंने आरोपों पर कोई जवाब नहीं दिया है। इसके साथ ही बीजेपी (BJP) आलाकमान ने भी चुप्पी साध रखी है।

read more बढ़ती उम्र के लक्षण कम करते है ये सुपर फूड्स, विटामिन सी (vitamin C) युक्त आहार का करे सेवन

बताते चलें कि इस मामले में अलीराजपुर के न्यायिक मजिस्ट्रेट अमित जैन के निर्देश पर सांसद डामोर के साथ-साथ अलीराजपुर कलेक्टर गणेश शंकर मिश्र के खिलाफ, पीएचई के कार्यपालन यंत्री डीएल सूर्यवंशी, सुधीर कुमार सक्सेना और अन्य के खिलाफ आईपीसी की धारा 197, 217, 269, 403, 406 , 409 एवं 420 के तहत एफआईआर (FIR) हुई है। वहीं, याचिकाकर्ता धर्मेंद्र शुक्ला ने आरोपियों के विरुद्ध करीब छह सौ करोड़ रुपये के घोटाले में शामिल होने संबंधी समस्त दस्तावेज कोर्ट में प्रस्तुत किए हैं। इसे लेकर याचिकार्ता ने साल 2015 और 2017 में याचिकाएं लगाई थी। अब इस मामले में 17 जनवरी 2022 को सुनवाई होगी। साथ ही आरोपियों को उस दिन कोर्ट में उपस्थित भी रहना है।