UNLOCK के लिए MP तैयार,CM ने जनता के नाम संबोधन में बताया क्या है लॉकडाउन खोलने का प्लान

UNLOCK के लिए MP तैयार,CM ने जनता के नाम संबोधन में बताया क्या है लॉकडाउन खोलने का प्लान
UNLOCK के लिए MP तैयार,CM ने जनता के नाम संबोधन में बताया क्या है लॉकडाउन खोलने का प्लान

रीवा समेत 7 जिलों में नहीं खुलेगा लॉकडाउन,सच या अफवाह?

बुलंदसोच न्यूज़,डेस्क रिपोर्ट 27 मई 2021।

UNLOCK यानी कोरोना कर्फ्यू से जनता को राहत देने के लिए MP में प्लान तैयार हो गया है,लॉकडाउन कैसे खोलना है इसके लिए बुधवार को प्रदेश के मुख्यमंत्री(CM)शिवराज शिवराज सिंह चौहान ने जनता को संबोधित करते हुए पूरा प्लान बताया।

प्रदेश में पाबंदियों के साथ 1 जून से अनलॉक(UNLOCK) की धीरे-धीरे शुरुआत होगी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को इसका ऐलान किया। CM ने बताया कि अनलॉक के दौरान आर्थिक गतिविधियां शुरू होंगी। राजनीतिक और सार्वजनिक आयोजनों विशेषकर धरना-प्रदर्शन, रैलियों और धार्मिक आयोजन पर प्रतिबंध रहेगा।

CM ने बताया कि वैवाहिक कार्यक्रमों की अनुमति होगी, लेकिन वर-वधु दोनों पक्षों से सिर्फ 10-10 लोग ही शामिल हो पाएंगे। शादी समारोह में आने वाले लोगों के लिए कोरोना निगेटिव टेस्ट अनिवार्य होगा। कार्यक्रम में सरकार टेस्टिंग के लिए व्यवस्था करेगी।

प्रदेश में लागू रहेगी धारा 144

मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रदेश में भीड़ से बचने के लिए धारा 144 पहले की तरह ही लागू रहेगी।जिला, ब्लॉक व गांव स्तर पर बनी क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुपों की बैठक 30-31 मई तक कर निर्णय लें कि 1 जून से क्या खुलेगा और क्या बंद रहेगा? उन्होंने कलेक्टरों से कहा है कि इन समूहों की बैठकें समय पर हो जाएं, यह सुनिश्चित कर लिया जाए। इसके लिए रोडमैप तैयार किया गया है।

भोपाल-इंदौर-रीवा समेत 7 जिलों में लॉकडाउन खुलेगा या नहीं

Read more:राज्य सरकार अब घर घर पहुंचाएगी शराब,एप के माध्यम से ऑनलाइन होगी बुकिंग

CM शिवराज ने जनता को संबोधित करते हुए यह साफ तौर पर कहा कि प्रदेश में 1 जून से कोरोना कर्फ्यू से राहत मिलेगी यानी कि लॉकडाउन खुलेगा लेकिन उन्होंने यह भी कहा कि जिले की परिस्थितियों के हिसाब से निर्णय होंगे।उन्होंने कहा कि रीवा,भोपाल,इंदौर,अनूपपुर, सीधी,रतलाम,सागर में अधिक संयम रखने की आवश्यकता है लेकिन उन्होंने इन जिलों में कोरोना कर्फ्यू यानी लॉकडाउन बढ़ाने को लेकर कुछ भी नहीं कहा।सीएम (CM)ने कहा कि हर जिले की अलग-अलग परिस्थितियां हैं। कहीं कोरोना पूरी तरह से नियंत्रित हो गया है, तो कहीं केस हर दिन कम-ज्यादा हो रहे हैं। जैसे बड़े जिलों में अभी ज्यादा केस आ रहे हैं। ऐसे में क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप को इन सभी पहलुओं पर विचार कर निर्णय लेना चाहिए।

पुराने नियम पर लौटी MP सरकार

Read more:किसके संरक्षण में फलफूल रहा शराब कारोबार?शहरी इलाकों से लेकर ग्रामीण इलाकों तक में गली गली बिक रही अंग्रेजी व देशी शराब

मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार ने जिस प्रकार से कोरोना की पहली लहर से निपटने के लिए नियम बनाये थे ठीक उसी प्रकार से तीसरी लहर से निपटने की कार्ययोजना सरकार ने तैयार की है।सीएम ने जनता को संबोधित करते हुए कहा कि हमे प्रदेश भी चलाना है जान और जहान दोनों को लेकर काम करना है।लॉकडाउन खुलेगा लेकिन तमाम गतिविधियों को एक साथ नहीं खोला जाएगा।संक्रमण की दर घटी है ऐसे में ट्रेसिंग की जा सकती है।इसलिए यदि एक केस भी मिला तो माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाएंगे,एक घर या उसके आस पास दो चार घरों को कंटेन्मेंट एरिया बनाएंगे,वहां आना जाना बंद करेंगे।पूरे परिवार की कोरोना की जांच कराई जाएगी।प्रदेश में हर राेज 75 हजार का टेस्ट का टारगेट रहेगा।

धर्मगुरुओं से अपील- अनुयायियों को नियंत्रित करें

यह भी पढ़ें:MP:प्रदेश को अनलॉक करने सीएम ने नागरिकों से व्हाट्सएप पर मांगे सुझाव,इस नंबर पर आप सीधे सीएम को दे सकते हैं अपना मत

मुख्यमंत्री ने सभी धर्मगुरुओं से अपील की है कि कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए जरूरी है कि वैक्सीनेशन और मास्क की अनिवार्यता। उन्होंने कहा कि धर्मगुरु अपने प्रभाव का उपयोग करते हुए अनुयायियों को नियंत्रित करें। राजनैतिक दल भी कार्यकर्ताओं को कोरोना से निपटने में सहयोग करने के लिए प्रेरित करें।

संक्रमण रोकने के लिए नियम बनेंगे

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में कौन सी गतिविधियां चालू रहेंगी? बाजारों में भीड़ रोकने के लिए नियम बनाए जाएंगे, ताकि संक्रमण फिर ना फैले। उन्होंने लोगों से अपील की है कि 1 जून के बाद छूट मिलने पर घर से बाहर निकलने के बाद मास्क अवश्य लगाएं।बेवजह घर से बाहर न निकलें।