15-18 वर्ष के बच्चों को लगेगी कोरोना वैक्सीन, प्रिकॉशन डोज देने का भी ऐलान

vaccine
vaccine

भोपाल-
कोविड-19 की तीसरी लहर की आशंकाओं और वायरस के नए स्वरूप ओमिक्रॉन के देश में बढ़ते मामलों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को घोषणा की कि अगले साल 3 जनवरी से 15-18 साल के बच्चों को लगेगी वैक्सीन।

मध्य प्रदेश में स्कूल में ही लगाई जाएगी वैक्सीन। इसके लिए 3 जनवरी से कैम्प लगाए जाएंगे। स्वास्थ्य विभाग के साथ ही शिक्षा विभाग भी इसकी तैयारियों में जुट गया है।प्रदेश के स्कूल शिक्षा मंत्री इंदरसिंह परमार ने यह जानकारी दी है।
इस समय देश में बच्चों के लिए भारत बायोटेक की कोवाक्सिन और जायडस कैडिला की जायकोव-डी वैक्सीन को ही मंजूरी मिली है। शुरुआत में बच्चों को सिर्फ कोवाक्सिन ही लगाई जानी है। बच्चों के टीकों के लिए रजिस्ट्रेशन 1 या 2 जनवरी से कोविन ऐप पर शुरू होगा। उन्हें 3 जनवरी से टीके लगेंगे। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक मध्य प्रदेश में 15 से 18 वर्ष के 49.27 लाख बच्चे हैं, जिन्हें टीका लगाया जाना है।

हेल्थकेयर और फ्रंटलाइन वर्कर्स को 10 जनवरी से बूस्टर डोज

हेल्थकेयर और फ्रंटलाइन वर्कर्स के लिए बूस्टर डोज का ऐलान करते हुए पीएम मोदी ने कहा, ”हम सबका अनुभव है कि जो कॉरोना वॉरियर्स हैं, हेल्थकेयर और फ्रंटलाइन वर्कर्स हैं, इस लड़ाई में देश को सुरक्षित रखने में उनका बहुत बड़ा योगदान है। वो आज भी कोरोना के मरीजों की सेवा में अपना बहुत समय बिताते हैं। इसलिए एहतियात के तौर पर सरकार ने निर्णय लिया है कि हेल्थकेयर और फ्रंटलाइन वर्कर्स को वैक्सीन की Precaution Dose (बूस्टर डोज) भी प्रारंभ की जाएगी। इसकी शुरुआत 2022 में, 10 जनवरी, सोमवार के दिन से की जाएगी। व अग्रिम मोर्चे पर तैनात कर्मियों, अन्य गंभीर बीमारियों से ग्रसित 60 वर्ष की आयु से ऊपर के लोगों को चिकित्सकों की सलाह पर एहतियात के तौर पर टीकों की खुराक दिए जाने की शुरुआत की जाएगी. हालांकि उन्होंने ‘‘बूस्टर डोज’’ का जिक्र ना करते हुए, इसे ‘‘प्रीकॉशन डोज’’ (एहतियाती खुराक) का नाम दिया.